SEO

दोस्तों क्या आपने कभी सोचा है, कि गूगल सर्च करने पर क्यों कुछ वेबसाइटें (जैसे- Quora, Wikipedia) हमें हमेशा सबसे ऊपर दिख जाती हैं; जबकि बाकी की जो वेबसाइटें होती हैं उन्हें देखने के लिए हमें Scroll down करना पड़ता है?

दरअसल, गूगल और यूट्यूब जैसे सर्च इंजन बहुत ही Complex होते हैं। ये किसी भी जानकारी को अपने Users को दिखाने से पहले उसकी गहराई से जांच-पड़ताल करना पसंद करते हैं। वो चाहते हैं कि उनको use करने वाले लोगों को जितनी जल्दी और अच्छे से हो सके, वह जानकारी मिल जाए जो वह ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं।

लेकिन क्या करोड़ों Blogs और Websites में से Best Result को ढूंढ पाना उतना आसान है जितना कि यह देखने मे लगता हैं?

बिल्कुल नहीं!

गूगल के मुताबिक, वह लोगों को किसी भी सवाल का जवाब देने के लिए बहुत सारी वेबसाइट को करीब 200 Factors की कसौटी पर जांचता-परखता है और जो वेबसाइटें इन कसौटियों पर जितनी अच्छी तरह से खरी उतर जाती है, उन्हें गूगल अपने सर्च में उतने ही ऊपर या कहें उतनी ही अच्छी Position पर लोगों को दिखाता है क्योंकि वो websites लोगों के लिए Best होती हैं।

एक Blogger, Webmaster या SEO Expert के रूप में हम सब ये चाहते हैं कि जब भी लोग किसी ऐसी चीज के बारे में search करें, जो हमारी website से related हो (या जिसके बारे में हम अपने ब्लॉग पर लिखते हों) तो हमारी जो वेबसाइट है वह लोगों को Google में सबसे ऊपर दिखे यानि सबसे पहले दिखे; ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग उस पर click कर सके और हमारी वेबसाइट Popular हो सके।

 

 

अब क्योंकि दुनिया भर में 1 अरब से भी ज्यादा Websites हैं इसलिए सबको पीछे छोड़ कर अपनी वेबसाइट को सबसे आगे लाने का काम बिल्कुल भी आसान नहीं होता। बहुत HARD COMPETITION होने की वजह से हमें अव्वल आने के लिए बहुत ज्यादा मेहनत करनी होती है।

गूगल में अव्वल आने के लिए हमें उसे यह बताना होगा कि जो हमारी वेबसाइट है वह अच्छी है और इसमें search करने वाले लोगों को उनके सवालों का जवाब जरूर मिलेगा।

लेकिन अब सवाल यह उठता है कि गूगल को ये सब बताएं कैसे? फोन तो कर नहीं सकते और ना ही वो हमारा रिश्तेदार है जो सिफारिश करके हमारी वेबसाइट को सीधे ऊपर पहुंचा देगा

दरअसल हमें गूगल को छोटे-छोटे इशारों-ही-इशारों (indications) में यह बताना होगा कि हमारा जो website है वो लोगों के सवाल का best जवाब देता है। इन इशारों को Google तक पहुंचाने की बहुत सारी छोटी-छोटी techniques होती हैं जिन्हें एक साथ इस्तेमाल करने को “सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO)” कहा जाता है।

 

नोट: SEO का फुल फॉर्म ‘SEARCH ENGINE OPTIMIZATION’ होता है।

एस.ई.ओ कोई एक technique नही है बल्कि ये कई सारी अलग-अलग तकनीकों का Combination है, जिनकी मदद से आप अपनी वेबसाइट को Google में सबसे पहले दिखा सकते हैं। अब आगे हम इन्ही SEO Techniques के बारे में जानने वाले हैं-

  • एस.ई.ओ क्या होता है और किसी वेबसाइट का एस.ई.ओ कैसे करें/ what’s SEO & the way to use it in Hindi

1)• SEO क्या है (What is SEO):

रिसर्च बताती हैं कि गूगल पर सर्च करने वाले 10 में से 9 लोग कभी भी Google के दूसरे पेज पर नही जाते। यानी साफ शब्दों में कहें तो ज़्यादातर लोगों को उनके सवाल का जवाब ज़्यादातर बार गूगल के Page 1st पर ही मिल जाता है। और इन 9 लोगों में से भी 5 लोग “पहले पेज की सिर्फ पहली 3 वेबसाइट्स” पर ही click करते हैं।

बात साफ है कि गूगल के पहले पेज से ही सबसे सबसे ज्यादा लोग किसी website पर जाते हैं। यानी अगर मोटे तौर पर कहा जाए तो जो website गूगल में जितनी ऊपर दिखती है (या कहें rank करती है) उसपे उतने ही ज्यादा लोग click करते हैं और वो उतनी ही ज़्यादा popular होती है।

अब कौन-सा Blogger नही चाहता है कि उसका blog जो है, उसपे काफी सारा traffic आए; और वो पॉपुलर बने।

जाहिर सी बात है, हर कोई चाहता है उसका ब्लॉग एक High-Traffic Blog में तब्दील हो। लेकिन अब केवल चाहने मात्र से ही सबकुछ नही हो जाता है ना। अपनी चाहतों को मंजिल तक पहुंचाने के मेहनत तो करनी ही पड़ती है।

अपनी वेबसाइट पर अच्छा और लगातार ट्रैफिक लाने के लिए आपको अपनी वेबसाइट को गूगल में अच्छी Position पे rank कराना होगा। लेकिन अब Google यूंही किसी वेबसाइट को उठाके अपने सर्च में ऊपर नहीं चढ़ा देता है। वो सिर्फ उन्हीं websites को ऊपर rank करता है जो लोगों के द्वारा पूछे गए सवाल का सटीक जवाब देती है और Searchers को value serve करती है।

» अच्छी वेबसाइटों का पता लगाने के लिए Google उनके बारे में बहुत गहराई से जांच- पड़ताल करता है जैसे कि वह पता लगाता है कि-

1)• कोई जो website है, वो कितनी पुरानी है (Domain Age)- ज्यादा पुरानी वेबसाइट= ज़्यादा अच्छी रैंकिंग.

2)• उसपे जो post लिखी हैं वो कितने शब्दों की है (Word Count). ज़्यादा लम्बी पोस्ट= ज़्यादा अच्छी रैंकिंग.

3)• क्या उस post के Title, Heading, Subheading, Bold, Italic और Underline में वो शब्द लिखे हुए हैं जो search करने वाले व्यक्ति ने गूगल में type किये हैं. (Keywords) ज्यादा सही कीवर्ड्स= ज़्यादा अच्छी रैंकिंग

4)• वो जो पोस्ट है उसे कितनी और कौन-कौन-सी वेबसाइटों ने अपने से link किया है. (Bachlinks) अच्छे बैकलिंक्स= अच्छी रैंकिंग्स.

5)• ऐसे ही करीब 200 factors के आधार पर गूगल जो है वो सभी websites को compare करता है और जो best results हैं, उन्हें लोगों को सबसे पहले show करता है।

अब ब्लॉगर जो होते हैं, वो अपनी वेबसाइट पर किसी post को लिखते समय ऊपर लिखी गई बातों का ध्यान रखते हैं, ताकि गूगल उनकी पोस्ट को लोगों को सबसे पहले दिखाएं और किसी वेबसाइट पर इसी तरह की 200 बातों को ध्यान में रखकर post को लिखने को ही हम “SEO करना” कहते हैं।

आसान भाषा में कहा जाए तो

SEO कई सारी techniques का समूह होता है, जिनका use करके हम अपनी website को Search Engines में ऊपर show करा सकते हैं और ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपनी वेबसाइट तक ला सकते हैं।

जैसे कि, अगर आप अपने ब्लॉग पर detailed posts लिखते हैं; उनमें सही से keyword include करते हैं और उसके backlinks बनाते हैं, तो इसका मतलब यह है कि आप अपने “ब्लॉग का SEO” कर रहे हैं।

याद रखिए, कोई Course करके आप उतनी अच्छी तरह से SEO नहीं सीख सकते हैं जितना कि आप खुद की वेबसाइट पर उसकी practice करके।

प्रैक्टिस से मेरा मतलब है कि सीखी हुई SEO Techniques को अपने वेबसाइट पर apply करना और देखना की कौन-कौन सी techniques काम करती है और कौन-कौन सी नहीं! इस तरह जब आप अपनी कई blog posts में इन SEO strategies को इस्तेमाल करते रहेंगे, तो आपको धीरे-धीरे अच्छी और SEO optimised पोस्ट लिखने का अंदाजा हो जाएगा और इस तरह आप अच्छा और असरदार SEO सीख और कर पाएंगे।

SEO कोई Rocket Science नहीं है। इसे पढ़कर और फिर उस पढ़े हुए की practice करके आप आसानी से सीख सकते हैं।

ध्यान रहे, सीखी हुई Techniques की प्रैक्टिस करके ही आप अपनी वेबसाइट का अच्छा SEO कर सकते हैं और Google से बड़ी मात्रा में free traffic प्राप्त कर सकते हैं।

2)• एस.. के प्रकार (Types of SEO):

SEO की techniques को mainly हम 5 हिस्सों में बांट सकते हैं-

(A)• On-Page SEO: अपनी website में “post लिखते वक्त” जिन techniques का use करके हम उस post को Google में ऊपर ले जाने की कोशिश कर सकते हैं, उसे On Page SEO कहा जाता है। On Page मतलब जो SEO website के अंदर किया जाता है।

उदाहरण के लिए- Detailed Post लिखना और उसमें जरूरी Keywords शामिल करना जैसी टेक्निक्स On Page SEO के under में आती हैं। ऐसा इसलिए, क्योंकि इन्हें हम ब्लॉग पोस्ट लिखते वक्त इस्तेमाल करते हैं।

(B)• Off-Page SEO: गूगल किसी को website को rank करने के लिए सिर्फ उसके अंदर ही नहीं झांकता है बल्कि वह उसके बारे में बाहर से भी जानकारी जुटाता है (जैसे- सोशल साइट्स और अन्य वेबसाइटों से)। जिन SEO Techniques की मदद से हम अपनी website का प्रचार-प्रसार करके उसे Google में ऊपर rank करवाते हैं, उन्हें Off-Page SEO कहते हैं।

उदाहरण के लिए- ब्लॉग पोस्ट को social sites पर share करना और उनके लिए Backlinks बनाना जैसे काम Off Page SEO के अंतर्गत आते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इन्हें पोस्ट को publish करने के बाद किया जाता है।

(C)• Technical SEO: वेबसाइट के अंदर लिखी हुई Coding रस सम्बंधित चीज़ें Technical SEO के under में आती हैं। वेबसाइट में लिखी हुई coding से भी SEO प्रभावित होता है।

जैसे- अगर website पे बहुत ज़्यादा heavy coding की गई है तो वेबसाइट load होने या कहें खुलने में ज़्यादा समय लेगी। और गूगल ने दो टूक कहा कि वह Slow Websites को बिल्कुल भी पसन्द नही करता और उसे उन्हें अपने SERPs में वरीयता देने में कोई दिलचस्पी नही है। इसके अलावा जो site अलग-अलग Device के हिसाब से अपने design को नही बदलती है, उसे भी गूगल रैंकिंग्स में वरीयता देने से झिझकता है।

इस तरह Technical SEO भी किसी website के लिए बहुत important है। अपनी website से फालतू के codes और tools/widgets को हटाकर आप उसका technical seo सुधार सकते हैं।

(D)• User Interaction SEO: एस.ई.ओ का ये type बाकी तीनो के मुकाबले नया और मजेदार है। इसका concept अभी कुछ साल पहले से ही शुरू हुआ है।

इसमें होता ये है कि Google अपने सर्च में लोगों द्वारा किये गए व्यवहार के आधार पर वेबसाइटों की quality जांचता है और उन्हें rank करता है।

उदाहरण के लिए- मान लीजिए कि कई सारे लोग गूगल में जाके “What is SEO” सर्च करते हैं। अब उनमें से जो ज़्यादातर लोग हैं, वो पहले नम्बर पे आने वाली वेबसाइट पे न जाके, दूसरे नम्बर वाली वेबसाइट पे जाते हैं। तो अब आपको क्या लगता है गूगल क्या करेगा?

अब गूगल सोचेगा कि ज़्यादातर लोग पहली वेबसाइट को छोड़कर दूसरी पे जा रहे हैं। इसका मतलब ये हुआ कि दूसरी वाली में पहली वाली वेबसाइट के मुकाबले कुछ खास बात है, तभी तो लोग उसे click कर रहे हैं। इसलिए वो दूसरी वाली website को पहले नम्बर पे और पहले नम्बर वाली website को दूसरे नम्बर पे धकेल देता है। ताकि लोगों को अच्छी वेबसाइट सबसे पहले दिख सके।

ये SEO नया है, इसलिए कई सारे bloggers इसपे ज़्यादा ध्यान नही देते हैं। यकीन मानिए अच्छा User Interaction SEO आपकी वेबसाइट को बिना किसी backlink के गूगल के top पे पहुंचा सकता है।

(E)• Local SEO: जब आप अपनी website को किसी खास जगह (location) के लोगों तक पहुंचाने के लिए SEO करते हैं तो इस तरह के एस.ई.ओ को ‘लोकल एस.ई.ओ’ कहा जाता है।

  • इस्तेमाल करने के आधार पर SEO तीन तरह का होता है-

1)• Black Hat SEO Techniques: जब लोग अपनी वेबसाइट को गूगल में आगे लाने के लिए कुछ गलत तरीकों का इस्तेमाल करते हैं तो उसे Black Hat SEO कहा जाता है।

जैसे- एक ही keyword को बार-बार लिखना; पैसे देकर backlinks खरीदना।

Note: ब्लैक हैट एस.. करने पर Google आपकी वेबसाइट को BAN कर सकता है।

2)• White Hat SEO Techniques: जब लोग सही तरीकों का इस्तेमाल करके अपनी वेबसाइट को गूगल में रैंक कराते हैं, तो इसे White Hat SEO कहते हैं।

3)• Grey Hat SEO Techniques: जब लोग अपनी वेबसाइट पे कुछ White Hat और कुछ Black Hat Techniques को use करते हैं, तो उसे Grey Hat SEO बोला जाता है। Grey इसलिए क्योंकि White + Black मिलाने से Grey बनता है।

3)• किसी ब्लॉग या वेबसाइट का SEO करना क्यों जरूरी होता है? (Why SEO is Important)

किसी website पर लोग कई सारी अलग-अलग जगहों (sources) से आ सकते हैं। कुछ लोग सीधे ब्राउज़र में वेबसाइट का URL डालकर उसपे visit करते हैं कुछ लोग facebook, twitter जैसी social sites में shared links के जरिये वेबसाइट तक पहुंचते हैं। इन सबके अलावा बहुत सारे लोग होते हैं जो सर्च इंजनों (जैसे- गूगल) पे search करके किसी website पर पहुंचते हैं।

इन सब तरीकों में से सबसे ज्यादा लोग करीब 60% Search Engines का इस्तेमाल करके किसी website तक पहुंचते हैं। इससे पता चलता है कि सर्च इंजन कितने विशाल और जरूरी Traffic Sources हैं। खासकर GOOGLE…

सर्च इंजनों में Traffic तो काफी है लेकिन इसके साथ ही साथ ही साथ Competition भी बहुत ज्यादा तगड़ा है।

सर्च इंजन्स मैं सर्च करने वाले ज्यादातर लोग पहले दिखने वाली websites पर ही click कर देते हैं। इसलिए उन वेबसाइटों को गूगल से सबसे ज्यादा Free Traffic मिल जाता है, जो ऊपर rank करती हैं। SEO Techniques का उपयोग करके हम अपनी वेबसाइट को गूगल में ऊपर दिखा सकते हैं और अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को popular बना सकते हैं।

अगर आप अपनी वेबसाइट का सही ढंग से SEO नहीं करते हैं तो उसका मतलब यह है कि आप Google से आने वाले बहुत सारे Visitors, Readers या Customers को अपने हाथ से जाने दे रहे हैं। इसलिए वेबसाइट का अच्छे से SEO करना बहुत ही ज्यादा जरूरी है।

4)• अपने ब्लॉग का SEO कैसे करें (How to try to to SEO of your blog):

मेरे हिसाब से अब तक तो आप यह समझ ही गए होंगे कि SEO कोई एक चीज नहीं है। ये कई सारी छोटी-छोटी चीजों का combination है जो एक साथ मिलकर हमारी वेबसाइट को में Google में ऊपर उठाने में मदद करते हैं।

5)• एस.. से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण शब्द (Important SEO Terms):

  • Title Tag: किसी पोस्ट का जो title होता है, उसे SEO में Title Tag बोला जाता है। जैसे- ये जो post आप अभी पढ़ रहे हैं, उसका टाइटल टैग “SEO क्या है?” है।
  • Meta Description: सर्च इंजन्स में दिखने वाली वेबसाइट्स के title tag के नीचे जो थोड़ा-सी उस post के बारे में जानकारी दी होती है, उसे Meta Description कहा जाता है।
  • SERPs: इसका पूरा नाम होता है- program Result Pages. यानी सर्च इंजन में जो वेबसाइटें दिखती हैं, वो सब एक साथ मिलकर SERPs कहलाती हैं।
  • Keyword: वो चीज़ें जिन्हें बहुत सारे लोग गूगल में type करते हैं। जैसे- Who is Narendra Modi; what’s SEO etc.
  • Keyword Stuffing: करीब 10-15 साल पहले तक, जब गूगल उतना नहीं था जितना कि वह आज है, लोग पोस्ट लिखते समय बार-बार अपने keywords उसमें लिखते थे ताकि गूगल उनको अपने search में ऊपर rank कर सके। इसे ही Keyword Stuffing कहा जाता था। आज के समय में यह तरीका काम नही करता।

SEO की दुनिया हर दिन लगातार बदलती रहती है। हम इसे जितना भी सीखते हैं, कम है! क्योंकि सर्च इंजनों (खासकर Google) का Algorithm रोज बदलता रहता है, इसलिए SEO की techtiques भी लगातार बदलती रहती है।

अच्छा SEO सीखने का सबसे बड़ा मन्त्र है- “उसके बारे में पढ़िए और पढ़ी हुई चीजों को अपनी वेबसाइट पर try कीजिये। और फिर जो नतीजे मिलते हैं उन्हें analyse करिए।”

उम्मीद करते हैं कि आपको वेबसाइट और ब्लॉग के एस.ई.ओ के बारे में हिंदी में यह जानकारी/ Essential seo guidelines for website owner in hindiजरूर पसंद आई होगी। कोई सवाल-सुझाव हो, तो कमेंट के माध्यम से बताएं ₹और इस आर्टिकल को उन लोगों के साथ share जरूर करें, जिन्हें Blogging, SEO या Digital Marketing पसंद है। सोचोकुछनया से जुड़ने के लिए शुक्रिया!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here