mozoo

जरा सोचिए, क्या होगा कि अगर आप बस अपनी site पे काम करते जाएँ और आपको यह बताने वाला कोई न हो कि आप जो कर रहे हैं उससे आपकी साइट पर अच्छा असर पड रहा है या फिर उससे आपकी साइट नीचे जा रही है?

शायद इस situation में हममें से ज्यादातर लोग confused रहेंगे और हो सकता है कि शायद कई लोग तो blogging छोड़ ही दें.

इसी काम में हमारी मदद करने के लिए यानि हमें यह बताने के लिए कि हम अपनी साइट पर कितना काम कर रहे हैं और हमें अभी कितना और काम करने की जरूरत है, कई SEO कंपनियों ने अपने parameters बनाएँ हैं जिनमें से DA, PA, Alexa Rank, Page Rank और Moz Rank सबसे ज्यादा popular हैं।

इस आर्टिकल में जिस SEO Metric के बारे में हम बात करने वाले हैं वो है- मोज़ रैंक (Moz Rank). तो चलिए जानते हैं कि मोज़ रैंक क्या है और यह आपकी साइट के क्यों मायने रखती है।

  1. मोज़ रैंक क्या है? (What is MozRank of a website):

Domain और Page Authority की तरह ही Moz Rank (MR) भी दुनिया की सबसे बड़ी SEO कंपनी Moz की SEO Metric है। जहाँ एक ओर DA और PA, किसी साइट की गूगल में रैंक करने की संभावना को करीब 40 फ़ैक्टर्स के आधार पर predict करते हैं वहीं मोज रैंक किसी वेबसाईट की गूगल में रैंक करने की क्षमता को उसके द्वारा प्राप्त किये गए बैकलिंकों के आधार पर calculate करती है।

मोज़ रैंक 1 से 10 के बीच के scale पर मापी जाती है। लॉगरिद्मिक स्केल एक ऐसा scale होता है जिसमें शुरुआत में तो progress करना आसान होता है मगर जैसे-जैसे हम आगे बढ़ते जाते हैं और आगे बढ़ना मुश्किल होने लगता है। यानि कि अपनी साइट की मोज़ रैंक को 1 से 3 तक बढ़ाना आसान होता है; 3 से 6 तक ले जाना कठिन और 6 से 10 तक ले जाना तो बहुत ही ज्यादा कठिन होता है।

आसान शब्दों में कहें तो,

Keyword क्या है और क्यों Need है?

मोज़ रैंक बताती है कि आपकी साइट (या पेज) को जो backlink मिले हैं वे कितने शानदार हैं और इन लिंकों के आधार पर बनी आपकी linking profile के हिसाब से मोज़ आपकी साइट की popularity decide करता है और आपको moz rank देता है।

मोज रैंक कुछ-कुछ गूगल की Page Rank (PR) के जैसे ही काम करती है। जब से गूगल ने पेज रैंक को publicly बंद करने का फैसला किया है तब से Moz Rank की लोकप्रियता में बहुत ज्यादा इजाफा हुआ है।

  1. मोज़ रैंक के फ़ैक्टर्स (Moz Rank Determining Factors):
  • मोज़ रैंक mainly आपकी साइट की linking profile पर निर्भर करती हैं। जितनी balanced और अच्छी आपकी linking (backlink) profile होती है उतनी ही अच्छी आपकी मोज़ रैंक मानी जाती है।
  • लिंकों की संख्या उतनी ज्यादा मायने नहीं रखती है जितनी कि लिंकों की quality. और मोज़ रैंक निर्धारित करते वक्त भी links की गुणवत्ता मायने रखती है।
  • आपको जिस साइट से लिंक मिला है उसकी link प्रोफ़ाइल क्या है यह भी मोज़ रैंक में बहुत अधिक मायने रखता है।
  1. अच्छी मोज़ रैंक कितनी होती है (What is sweet Moz Rank):

अच्छी से भी अच्छी साइटों की मोज रैंक बहुत ज्यादा नहीं होती है क्योंकि मोज़ रैंक backlinks profile के आधार पर निर्धारित की जाती है और अपनी backlink profile को अच्छे से manage कर पाना बहुत ही hard काम होता है।

कंटेन्ट राइटिंग क्या है, कैसे करें और पैसे कमाएँ?

वैसे “3” Moz Rank को आम साइटों के लिए अच्छी माना जा सकता है। अगर बात बड़ी साइटों की हो तो यह score “5” से ज्यादा हो तो बेहतर माना जा सकता है। यहाँ तक कि गूगल जैसी साइट की भी मोज़ रैंक पूरी 10 नहीं है ( 8.7 है)।

  1. मोज़ रैंक कैसे चेक करें? (How to see Moz Rank):

अपनी साइट की मोज़ रैंक check करने के लिए आप चाहें हो मोज़ के official tool Rank checker का use कर सकते हैं। इसके अलावा आप गूगल में जाकर “Moz rank checker” सर्च करने पर आने वाली साइटों में जाकर भी अपनी साइट की मोज़ रैंक जान सकते हैं। free moz rank checker

  1. मोज़ रैंक के जैसी ही अन्य रैंकिंग स्केल (Similar to Moz Rank):

मोज़ रैंक को अधिकांश लोगों द्वारा उपयोग किया जाता है इसलिए यह लोकप्रिय है। मगर हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि इसके जैसी अन्य रैंकिंग्स भी मौजूद हैं। जैसे- Ahrefs की Domain Ranking, Alexa की Alexa Rank और Majestic का Citation flow व trust flow और गूगल की page rank . ये SEO scores कम लोकप्रिय हैं।

  1. साइट की मोज़ रैंक कैसे बढ़ाएँ (How to extend Moz Rank):

अपनी साइट की मोज़ रैंक बढ़ाना दूसरी रैंकों को बढ़ाने की तुलना में काफी कठिन है। हालांकि आप नीचे दिए tips का इस्तेमाल करके अपनी मोज़ रैंक को manupulate कर सकते हैं-

  • अपनी link profile को balance करें यानि no follow और do follow दोनों तरह के लिंकों पर बराबर ध्यान दें।
  • लिंकों की संख्या से ज्यादा लिंकों की quality पर दें। क्वालिटी ज्यादा matter करती है।
  • अपनी साइट पर बने हानिकारक (toxic/bad) लिंक्स को हटाने का कोशिश कीजिए।
  • आपको जिस साइट से backlink मिल रहा है उसकी quality क्या है इससे भी moz rank पर प्रभाव पड़ता है। इसलिए अच्छी साइटों से link बनाएँ।

AUTHORS’ ANGLE:

मोज़ रैंक, डोमेन अथॉरिटी से ज्यादा मायने रखने वाली metric नहीं है इसलिए इसपे ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है। डोमेन अथॉरिटी आपकी साइट के बारे में ज्यादा अच्छी जानकारी देती है इसलिए उसपे अधिक ध्यान दीजिए और उसके हिसाब से अपनी साइट को optimize कीजिए। हालांकि अपनी साइट के backlinks के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए Moz Rank, डोमेन अथॉरिटी से ज्यादा अच्छी है।

तो दोस्तों यही था “मोज़ रैंक के बारे में जानकारी /Information About Moz Rank Hindi” पर हमारी आज की पोस्ट। यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें comment के माध्यम से जरूर बताएं और आपका कोई सवाल हो तो उसे भी जरूर पूछें। हमसे facebook पर जुड़ें ताकि आपको नई post की update मिलती रहे।


ये भी पढ़े

Proven SEO Audit Technique in Hindi

SEO और SEM में क्या अंतर है?

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here