(WWW)वर्ल्ड वाइड वेब क्या है ? और उसकी विशेषताएं हिंदी में जानें ।

वर्ल्ड वाइड वेब क्या है (What is World Wide Web)-

दोस्तों जब भी आप इन्टरनेट पर किसी भी वेबसाइट को open करते होंगे तो उस वेबसाइट के URL में आपको WWW देखने को मिलता होगा लेकिन क्या आपने कभी जानने की कोशिश किया की आखिर WWW क्या है और यह क्या काम करता है? WWW का फुल फॉर्म “World Wide Web” होता है जिसको “Web” भी कहा जाता है l

WWW, Documents का Collection होता है, जो आपस में एक दूसरे से hypertext से जुड़े हुए होते है | hypertext document में टेक्स्ट, इमेज, Audio आदि का समावेश होता है, WWW internet की एक Service है| WWW का प्रयोग सबसे पहले TIM BERNERS LEE ने 1989 में CERN Laboratory में किया | वर्ल्ड वाईड वेब मे Information को वेबसाईट के रूप मे रखा जाता है। ये वेबसाइटे वेब सर्वर पर हाईपरटैक्स्ट Files के रूप Store होती है। वर्ल्ड वाईड वेब एक System हैै, जिसके द्वारा प्रत्येक वेबसाइट को एक विशेष नाम दिया जाता है। उसी नाम से उसे वेब पर पहचाना जाता है।

Basic Computer Components की जानकारी Hindi में ।

WWW का फुल फॉर्म “World Wide Web” होता है जिसे “Web” या “W3” भी कहा जाता है| यह एक Information space होता है जहाँ पर website से related सारे documents और webpages को URL (Uniform Resource Locator) के द्वारा Identify किया जाता है| यहाँ पर सभी documents HyperText links के द्वारा जुड़े होते हैं जिसे इन्टरनेट के माध्यम से access किया जाता है|

 (WWW)वर्ल्ड वाइड वेब क्या है ? और उसकी विशेषताएं हिंदी में जानें ।

दुसरे शब्दों में कहें तो World Wide Web (WWW) एक storage system होता है जहाँ पर दुनिया के सारे वेबसाइट store रहते हैं|

WWW का पूरा नाम वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) है। इन्टरनेट और वर्ल्ड वाइड वेब का आपस में गहरा सबंध है जो दोनों एक दुसरे पर निर्भर हैं। वर्ल्ड वाइड वेब Information का भण्डार होता है जो Links के रूप में होता है दरअसल यह एक ऐसी Technology है जिसके कारण पुरे World के कंप्यूटर एक दुसरे से जुड़े हुए हैं। वर्ल्ड वाइड वेब HTML , HTTP , Web Server और Web Browser पर काम करता है।

History of computer | Generation of Computer की पूरी जानकारी Hindi में l

किसी वेबसाइट के नाम को उसका URL (Uniform Resource Locator) भी कहा जाता है। जब हम किसी वेबसाइट को खोलना चाहते है, एड्रेस बार मे उसका नाम या URL Fill करते है। इस नाम की सहायता से ब्राउजर प्रोग्राम उस सर्वर तक पहुचता है जहाॅ वह फाइल या वेबसाइट स्टोर की गयी है और उससे एक वेबपेज प्राप्त करने के बाद हमारे कम्प्यूटर पर ला देता है। उस सूचना को व्राउजर प्रोग्राम माॅनीटर की स्क्रीन पर Display कर देता है। उस वेबसाइट पर कई Hyperlinks भी हो सकते है। प्रत्येक Hyperlinks किसी अन्य वेबपेज या वेबसाइट का URL बताता है। उस लिंक को क्लिक करने पर ब्राउजर उसी वेबपेज या वेबसाइट तक पहुचकर उसे उपयोगकर्ता को उपलब्ध करा देता है। इस प्रकार उपयोगकर्ता किसी वेबसाइट को देख सकता है, जिसका URL या Name उसे पता हो।

सॉफ्टवेयर क्या होता है – What is Software(In Hindi)?

History of WWW –

World Wide Web से पहले information को display कराने का काम इन्टरनेट ही करता था लेकिन यह केवल text जैसे information को display कराने का काम करता था| हालाँकि यह information आदान प्रदान करने का बहुत ही अच्छा तरीका था परन्तु Congress के US Library (अमेरिकी पुस्तकालय) के catalogue (सूची) जैसी जानकारी पहुँचाने के लिए यह बहुत ही boring (उबाऊ) था|

कम्प्युटर के फायदे और नुकसान हिंदी में।

दूसरा features HTML (Hyper Text Markup Language) था l जो की text जैसे information के साथ साथ picture, colors etc. जैसे information को display कराने का काम करता था लेकिन इसे network नहीं किया जा सका lफिर Sir Tim Berners-Lee ने इन सभी features को एक साथ लाया और उसके बाद World Wide Web बनाया| World Wide Web का सबसे पहला परिक्षण दिसम्बर 1990 में Switzerland में स्थित CERN के Laboratory में हुआ| 1991 तक Web browser और Web server software को Provide कराया गया और 1992 तक कुछ site को server में host किया गया|

एक बात का हमेशा ध्यान रखें की WWW और इन्टरनेट दोनों अलग अलग है| बहुत सारे लोग दोनों को एक ही चीज मानते हैं लेकिन ये दोनों अलग अलग हैं|

Google se Paise Kaise kamaye पूरी जानकरी हिंदी में 2020

वर्ल्ड वाइड वेब की विशेषताये (Features of World Wide Web)

  1. Hyper Text Information System
  2. Cross-Platform
  3. Distributed
  4. Open Standards and Open Source
  5. Web Browser: provides a single interface to many services
  6. Dynamic, Interactive, Evolving
  7. Graphical Interface

Hypertext Information System:- वेब पेज के document में विभिन्न घटक होते है जैसे टेक्स्ट, graphics, object, sound यह सभी घटक आपस में एक दूसरे से जुड़े होते है | इन घटकों को आपस में जोड़ने के लिए hypertext का उपयोग किया जाता है |

Distributed:- www में वेबसाइट एक दूसरे से जुड़े होते है |सभी वेबसाइट में अलग अलग इन्फोर्मेशन होती है बहुत सी वेबसाइट ऐसी होती है जो दूसरे वेबसाइट से जुडी होती है| यूजर एक वेबसाइट खोलकर उससे दूसरे वेबसाइट से जुड सकता है इस कार्यप्रणाली को Distributed System कहा जाता है |

SEO क्या है और Search engine Optimization कैसे करते हैं?

cross platform :– cross platform का अर्थ होता है की वेब पेज या वेब साईट किसी भी कंप्यूटर hardware या operating System पर कार्य कर सकता है|

Graphical Interface:- वर्तमान में सभी वेबसाइट में टेक्स्ट के अलावा विडियो, ध्वनि आदि का समावेश रहता है | Hyperlink सुविधा से इन्फोर्मेशन को आसानी से देख सकते है या वेब पेज से जोड़ सकते है | dynamic website में मेनू, कमांड, बटन आदि का यूज किया जाता है, इससे कार्य करने में आसानी जाती है |

Amazon Refer और Earn स्कीम से पैसे कैसे कमाएं

वर्ल्ड वाइड वेब की कार्यप्रणाली (Functions of World Wide Web)-

  • HTML (Hypertext markup language) एक language है | HTML hypertext link प्रदान करता है, जो किसी यूजर को वेबसाइट से जुड़े हुए वेब पेज को एक्सेस करने में मदद करता है |
  • www, client server model पर Based होता है, जिसमे क्लाइंट साईट पर remote machine पर क्लाइंट साफ्टवेयर (वेब ब्राउसर) कार्य करता है| सर्वर साईट पर सर्वर सॉफ्टवेयर कार्य करता है |
  • client के द्वारा वेब ब्राउज़र के एड्रेस बार में url एड्रेस टाइप किया जाता है |

URL किसी भी फाइल का एड्रेस होता है, जिसके तीन भाग होते है :-

  1. Protocol
  2. Domain name
  3. Path

  • वेब browser में दिए हुए एड्रेस के आधार पर वेब browser दिए गए url के सर्वर से संपर्क करता है तथा उसे url के अनुसार साईट प्रदान करने का आग्रह करता है |
  • सर्वर के द्वारा url को IP address में परिवर्तित कर दिया जाता है, इससे client कंप्यूटर एक निश्चित सर्वर से जुड जाता है |
  • जब एक बार साईट प्रदर्शित होती है, तो उसमे सामान्य टेक्स्ट के अतिरिक्त के हायपर टेक्स्ट भी होते है जिस को इंगित करने पर उससे सम्बंधित URL प्रदर्शित होता है,जब यूजर उस लिंक को क्लिक करता है तब फिर वेब browser उस url पर उपस्थित पेज को प्रदर्शित करने का आग्रह सर्वर से करता है तथा सर्वर उस पेज को प्रदर्शित करता है जो browser उसे यूजर के लिए प्रदर्शित करता है |
  • इस प्रकार वेब browser कार्य करता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here